Exclusive: जनधन खातों में धन डालकर जनता के प्यार का कर्ज चुकाये मोदी सरकार

पीएम मोदी

जनधन खातों में धन डालकर जनता के प्यार का कर्ज चुकाये मोदी सरकार

 

– इस विपदा में नहीं डाली गई धनराशि, तो खातों औचित्य क्या?

जनधन खातों में धन डाल कर मोदी सरकार चुकाए जनता के प्यार का कर्ज। महामारी में लॉक डाउन के चलते आर्थिक तंगी से जूझ रहे गरीबों की हो सकती है बड़ी मदद। रोजाना दिहाड़ी-मजदूरी करने वाले गरीब परिवारों का दर्द समझे सरकार। 21 दिन तक कोरोना से नहीं, अन्य दिक्कतों से हो जाएगी गरीब की परेशानियों में इजाफा। सरकार द्वारा गरीब की खाद्यान्न दिक्कत दूर करने में उठाया गया सराहनीय कदम।

देहरादून। विकासनगर स्तिथ जनसंघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने आज अपना एक बयान जारी करते हुए कहा कि, कोरोना जैसी महामारी/विपदा के इस गंभीर संकट में मोदी सरकार गरीब मजदूरों व जरूरतमंद लोगों के जनधन खातों में धन डालकर उनकी मुसीबत का हल कर सकती है। देश का दिहाड़ी-मजदूरी और रोज कमाने वाला गरीब व्यक्ति आगामी 20-21 दिनों में लॉक डाउन के चलते आर्थिक तंगी से जूझने को मजबूर हो जाएगा।

Advertisements
रघुनाथ सिंह नेगी
                                      मोर्चा अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी

वैसे, सरकार ने आटा-चावल (खाद्यान्न) की व्यवस्था करने का ऐलान कर काफी हद तक जनता की मुसीबत कम करने का काम किया है। लेकिन देश में करोड़ों की तादाद में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा जन-धन खाते खुलवाए गए थे, तथा इन खातों में कोई आर्थिक सहायता सरकार द्वारा आज तक प्रदान नहीं की गई। लेकिन इस वक्त संकट/विपदा की घड़ी में मोदी सरकार गरीब जनता द्वारा दिए गए प्रचंड बहुमत (प्यार/आशीर्वाद) का कर्ज उतार सकती है।

मोर्चा प्रधानमंत्री मोदी जी से आग्रह करता है कि, अब समय आ गया है कि गरीब/मध्यम वर्गीय लोगों के जनधन खातों में धन डालकर जनता के प्यार का कर्ज चुकाये जिससे गरीब अपनी जरूरी, आवश्यक, आवश्यकताओं की पूर्ति इस आपात स्थिति/लॉक डाउन में अपने परिवार के लिए कर सके।