पछवा दून बना गंदगी का गढ़, लोगों में महामारी फैलने का खतरा

पछवा दून बना गंदगी का गढ़, लोगों में महामारी फैलने का खतरा

 

– सड़कों के किनारे और नदी खालो में डाला जा रहा कूड़ा कोरोना वायरस का भी नहीं है भय
– पछवा दून में गंदगी का कहर, करोड़ों रुपए का खर्चा करके भी कूड़ा निस्तारण के नहीं किए उपाय

रिपोर्ट- अमर सिंह कश्यप
देहरादून। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए शासन प्रशासन पूरे मन से कार्यवाही करके जगह-जगह साफ सफाई रखने और खुद को साफ रखने की बात कह रहा है। इसके ठीक उल्टा प्रेम नगर से हरबर्टपुर के मध्य सड़क के दोनों ओर नदी-नाले खालो में गांव-गांव शहर का सारा कूड़ा डंप किया जा रहा है। जिससे एक और जीवनदायिनी आसन नदी संकट में आ गई है। वहीं वायरस के संक्रमण के चलते बीमारी फैलने का खतरा भी क्षेत्र में ज्यादा बढ़ गया है। यदि सरकार द्वारा सैनिटाइजेशन का प्रबंध क्षेत्र में नहीं किया गया तो इसके भयंकर परिणाम हो सकते हैं।

Advertisements

बताते चलें कि, रामपुर कलां, शंकरपुर, सेलाकुई, सहसपुर, हरबर्टपुर, कहरी गांव, नंदा की चौकी, नदी, आसन नदी, पांव धोई, सारना नदी, शीतला नदी, धूलकोट जंगल, में जगह-जगह कूड़ा डाला जा रहा है। यही हाल पूरे पछवा दून में है। जिससे क्षेत्र में मच्छर पनप रहे हैं, तथा लोगों को एलर्जी और वायरल से दो चार होना पड़ रहा है। लोगों में कोरोना वायरस का भय फैल रहा है, और क्षेत्रीय अस्पतालों में कोई भी विशेष प्रबंध और दवा नहीं है।

ऐसे में यदि सफाई व्यवस्था नहीं की जाती तो इसके भयंकर परिणाम होंगे। हमारे संवाददाता द्वारा इसकी पड़ताल की गई और क्षेत्र में वायरस का संक्रमण ना हो इसके लिए गंदगी भरे क्षेत्रों का दौरा करके लोगों को जागरूक करने का भी कार्य किया गया है।