भारी बारिश के बावजूद भी दून नेशनल हैंडलूम एक्सपो में खरीदारी के लिए उमड़ी लोगों की भीड़

भारी बारिश के बावजूद भी दून नेशनल हैंडलूम एक्सपो में खरीदारी के लिए उमड़ी लोगों की भीड़

 

देहरादून। राजधानी के परेड़ ग्राउंड में लगे नेशनल हैंडलूम एक्सपो के मेले में भीड़ कम होने का नाम नहीं ले रही है। भारी बारिश होने के बावजूद भी भीड़ उतनी ही देखने को मिली जितनी को रोजाना रहती है। मेला अधिकारी केसी चमोली ने मेले की रौनक पहले दिन से लेकर अब तक जस का तस बना रखा है। जैसा मेला प्रथम दिन देखने को मिला आज भी वैसा ही है। बारिश के चलते सभी स्टॉलों पर वाटरप्रूफ टेंट लगाए हुए है। ताकि स्टॉल वालों को कोई भी परेशानी न हो और वह अपना स्टॉल सही से चला पाए।

नेशनल हैंडलूम में खरीदारी करते लोग
                          नेशनल हैंडलूम में खरीदारी करते लोग

इस मेले में किसी भी प्रकार की समस्या से खरीदारी के लिए आने वाले लोगों और मेले के लोगो को नही गुजरना पड़ रहा है। चाहे बारिश हो या धूप मेले की रौनक वैसी ही छाई हुई है। फ़ूड स्टॉल पर भी लोग मूंग दाल की पकोड़ी का लुफ्त उठा रहे है। इस मेले में लोग खरीदारी के साथ खाने पीने का भी खूब आनंद ले रहे है। देश के अलग-अलग राज्यों से लगे हुए फ़ूड स्टॉल लोगों को बहुत भा रहे है। खाने के स्टालों की व्यवस्था भी बहुत ही अच्छे से की गई है। ताकि लोगों को खाने-पीने में किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो।

Advertisements

देहरादून का यह मेला लोगो को अपनी तरफ आकर्षित तो कर रहा है साथ ही राजधानी की जनता एक्सपो को बेहद ही पसंद कर रही है। बच्चों से लेकर बूढ़े तक इस मेले में नज़र आ रहे है। बताना जरूरी होगा कि, 25 दिसंबर से प्रारंभ हुआ यह मेला 12 जनवरी तक चलेगा। मेले में सांस्कृतिक प्रोग्राम भी आयोजित किया गया है। जिसमें पहाड़ी कल्चर का खूब जमकर प्रर्दशन हुआ है। इस प्रोग्राम से देश के युवाओं को भी संदेश मिला कि, वह अपना कल्चर बरकरार रखें।

नेशनल हैंडलूम में राजस्थानी खाने का लुफ्त उठाती जनता
           नेशनल हैंडलूम में राजस्थानी खाने का लुफ्त उठाती जनता

राजधानी देहरादून के सभी लोग इस मेले का जमकर लुफ्त उठा रहे है। लोग भी खरीदारी कर आनंद महसूस कर रहे है। मेले में बच्चें, बूढ़े, व महिलाओं के लिए भी सभी जरूरतमंद चीजें उपलब्ध है। खास बात यह भी है कि, लोगों को इसके माध्यम से मौका मिल रहा है अलग-अलग राज्यों के कपड़े खरीदने और खाना खाने का। तेज़ बारिश होने के कारण सफाई कर्मी भी लगातार सफाई में लगे रहे। ताकि किसी भी व्यक्ति को दिक्कत का सामना न करना पड़े।