पुलिस का खेल निराला, चार दिन से चार चोर हवालात में बन्द

पुलिस का खेल निराला, चार दिन से चार चोर हवालात में बन्द

 

– पकडे गये आरोपियो से बरामद हो चुका चोरी का माल

– वसूली की रकम मिलने की लालच में पकडे गये आरोपियो को कोतवाली पुलिस ने नही भेजा जेल

कौशाम्बी। पुलिसिया खेल भी गजब का निराला है, और पुलिस कर्मियो के इस निराले खेल के चलते पुलिस की दोनो स्थिति में मुराद पूरी होती है। यदि आरोपियो ने पुलिस की बात मानकर समझौता कर लिया तो आर्थिक नुकसान भले ही आरोपियो को हो लेकिन कारागार के कष्ट से आरोपी बच जाते है। जिससे आरोपी थाना पुलिस की जायज-नजायज बात मानने को विवष होती है।

 

 

लेकिन यदि आरोपियो ने पुलिस की मुराद नही पूरी की तो उनका जेल जाना तय होता है। कोतवाली पुलिस के लिए आईपीसी और सीआरपीसी की धारायें और नियम कोई मायने नही रखती है। आखिर कोतवाली का पुलिस का मनमर्जी का खेल कब तक चलता रहेगा यह लोगो के बीच चर्चा का विषय है।

Advertisements

 

 

मंझनपुर कोतवाली क्षेत्र के खोरा गांव निवासी मनोज कुमार लोध को चोरी की शंका पर पुलिस ने बीते रविवार को पकडा था। जिसे कर्रा किया तो उसने गुडडू का नाम बताया, जिस पर गुडडू पुत्र हुबलाल लोधी निवासी खोरा को चार दिनो पूर्व पुलिस दिन में तीन बजे उस समय पकड लायी थी, जब वह बाइक से सरसो का तेल पेराने तेल मशीन पर गया था। गुडडू पर आरोप था कि, चोरी का पैनल उसके घर के पीछे रखा हुआ है। गुडडू को पकडने के बाद कोतवाली पुलिस ने चोरी किया गया पैनल गुडडू के घर के पीछे दूसरे के खंडहर पडे घर से बरामद भी कर लिया है।

 

 

इसी मामले में पुलिस ने खोरा गांव के हरीमोहन लोध की तलाश की लेकिन हरीमोहन नही मिला जिस पर पुलिस ने उसके भाई हरीहर को जिला अस्पताल के पास से पकड लिया है। खोरा गांव के ही लवकुश की भी पुलिस तलाश कर रही है इसी मामले में पुलिस दो अन्य लोगो को और पकड चुकी है। लेकिन चार दिन से अधिक बीत जाने के बाद पुलिस आरोपियो को अभी तक जेल नही भेज सकी है। बताते चले कि गांव में बने सरकारी पंचायत भवन में गांव के एक व्यक्ति ने भूसा रखकर कब्जा कर ताला बन्द कर लिया है, और गांव का हरीमोहन इन दिनो उसी के घर पर ही रहता है हरीमोहन पर चोरी करने का आरोप है।

 

 

जिस पर पुलिस हरीमोहन को पकडना चाहती थी, लेकिन हरीमोहन नही मिला बल्कि उसी के कब्जे के पंचायत भवन में पुलिस ने बडी तादाद में अवैध शराब बरामद की है। यह वही व्यक्ति है जो कभी पूर्व सीओ के आवास पर रात में भी अक्सर देखे जाते थे और मंझनपुर के जेई विद्युत मगन लाल से भी किसी मामले पर इनका विवाद हुआ था। लेकिन उक्त व्यक्ति के कब्जे के पंचायत भवन से शराब बरामद होने के बाद भी पुलिस ने दबंग पर कार्यवाही नही की है।

 

 

अब चार दिनो से कई आरोपी कोतवाली में बन्द है जिन्हे पुलिस लगातार टार्चर कर रही है। पुलिस किस अधिकार के तहत इन आरोपियो को चार-चार दिनो तक हवालात में बन्द कर रखी है यह जॉच का विषय है और इस मामले में भी पुलिस आलाधिकारियो ने जॉच करायी तो मंझनपुर कोतवाली पुलिस की कलई खुलना तय है।