Breaking: अवैध कब्जों में गुम हो गए कई तालाब

अवैध कब्जों में गुम हो गए कई तालाब

 

– पानी के लिए परेशान पशु-पक्षी, जानवर….

देहरादून। पश्चिम शरीरा और पूरब शरीरा के कई इलाकों के तालाब अवैध कब्जे का शिकार होकर अस्तित्व खो चुके हैं। वहीं, तालाबों तक पानी जाने के लिए बने नाले भी खत्म हो गए हैं। तालाबों के नाम पर बची हुई जमीन में कीचड़ भरा है। जिससे मवेशियों को भी पीने का पानी नही उपलब्ध हो पा रहा है। कौशाम्बी रोड से सटे तालाब सहित कई तालाब हैं। एक भी तालाब में पीने का पानी उपलब्ध नहीं है। जिससे जानवरों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

Advertisements

 

 

बताते चलें कि, पश्चिम शरीरा और पूरब शरीरा में तेजी से तालाबों को अवैध कब्जे से मुक्त कराने की कोई कवायद नहीं कर रहा है। पूरब शरीरा के नाम से तालाब है। इस तालाब में कई मोहल्ले गांव तक आने वाले माइनर से सरकारी नाली द्वारा पानी आता था। वर्तमान समय में सरकारी नाली पर भवनों का निर्माण होने से नाली का अस्तित्व खत्म हो गया। इतना ही नहीं तालाब की भूमि पर भी भूमाफियों ने अवैध कब्जा कर रखा है। तालाब के बचे हुए हिस्से में बरसात व नालियों के गंदे पानी का भराव होता है जो कि, गर्मियों में सूख जाता है।

 

 

पूरब शरीरा तिराहा के पास क्षेत्रफल का कच्चा तालाब है। तालाब में पशुओं को पानी पिलाने के लिए अलग दिशा बना हुआ है। दो दशक पूर्व उक्त तालाब में बंबे से पानी भर जाता था। जिससे पशुओं के साथ-साथ आम लोगों को काफी सहूलियत मिला करती थी। इस समय उक्त तालाब की भूमि के कुछ भाग पर अवैध कब्जा किया जा चुका है। वहीं, तालाब तक आने एवं तालाब भर जाने पर नहर की ओर जाने वाली नालियां बंद हो गई हैं। कुछ पर लोगों ने अवैध कब्जा कर लिया है। ग्रामीणो ने अवैध कब्जा तालाब पर करने वालो की शिकायत भी की लेकिन कोई कार्यवाही आज तक नही हो पाई है।