Breaking: 8400 करोड़ के घाटे में एअर इंडिया, सरकार नीलामी के चक्कर में

8400 करोड़ के घाटे में एअर इंडिया

 

नवंबर में मांगे जाएंगे नीलामी के आवेदन….

देहरादून। सरकारी एयरलाइन एअर इंडिया की बिक्री की प्रक्रिया नवंबर में शुरू होने वाली है। न्‍यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सरकार अगले महीने आवेदन मंगाने की योजना बना रही है। इसका मतलब यह हुआ कि, जो भी कंपनियां या शख्‍स एअर इंडिया को खरीदना चाहता है उसे पहले आवेदन देना होगा। हालांकि कुछ निकाय पहले ही एअर इंडिया में दिलचस्पी दिखा चुके हैं।

 

 

सूत्रों के मुताबिक इस महीने के अंत में या अगले महीने बोलियां मंगाई जा सकती हैं। इसकी निविदा हाल ही में विकसित ई-निविदा प्रणाली से की जाएगी। कोई कंपनी या व्‍यक्‍ति जब आवेदन देता है, तो यह माना जाता है कि, वह नीलाम होने वाली कंपनी को खरीदने के लिए इच्‍छुक है। सरकार एअर इंडिया की 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी में है। वहीं एअर इंडिया के कर्मचारियों की यूनियनें विनिवेश के प्रस्ताव का विरोध कर रही है।

Advertisements

 

 

बताते चलें कि, करीब 58 हजार करोड़ के कर्ज में दबी एअर इंडिया को वित्त वर्ष 2018-19 में 8,400 करोड़ रुपये का जबरदस्त घाटा हुआ है। एअर इंडिया को ज्यादा ऑपरेटिंग कॉस्ट और फॉरेन एक्सचेंज लॉस के चलते भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है। इन हालातों में एअर इंडिया तेल कंपनियों को ईंधन का बकाया नहीं दे पा रही है। हाल ही में तेल कंपनियों ने ईंधन सप्लाई रोकने की भी धमकी दी थी।

 

 

इससे पहले अगस्‍त महीने में इंडियन ऑयल और दो अन्य तेल कंपनियों ने बकाया नहीं देने की वजह से एअर इंडिया के 6 एयरपोर्ट पर ईंधन सप्‍लाई बंद कर दी थी। जिन 6 एयरपोर्ट पर ये परिस्थिति बनी थी, वो- पुणे, विशाखापत्तनम, कोच्चि, पटना, रांची और मोहाली हैं। यहां तेल कंपनियों ने एअर इंडिया को विमान ईंधन उपलब्ध कराने पर रोक लगा दी थी। तब एअर इंडिया पर तेल कंपनियों का करीब 5,000 करोड़ रुपये का बकाया था।