सोनिया गांधी के अध्यक्ष बनने पर भाजपा का पलटवार

सोनिया गांधी के अध्यक्ष बनने पर भाजपा का पलटवार……

देहरादून। गांधी परिवार के नेतृत्व के विपरीत आवाज उठाने वालो का कांग्रेस में क्या हश्र किया गया इतिहास इसका गवाह है। सोनिया गांधी के अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर भाजपा प्रदेश के सह मीडिया प्रभारी संजीव वर्मा ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, इस ड्रामा की पटकथा लोकसभा परिणाम आने के तुरंत बाद लिख दी गयी थी।

 

वंशवाद-परिवारवाद की साक्षात प्रतिमूर्ति कांग्रेस 4 पीढ़ियों से गांधी परिवार की विरासत बन कर रह गई है। 18 वर्ष से निरंतर कांग्रेस अध्यक्षा रही सोनिया गांधी ने अपनी विरासत पुत्र राहुल गांधी को सौंपी। पुत्र से दुर्दशा होने पर पुनः माँ सोनिया गांधी अध्यक्ष बन बैठी। यह गांधी परिवार की प्राइवेट लिमिटेड पार्टी है। अनुछेद 370 व धारा 35 A हटाने पर आज तक कांग्रेस अपना स्टैंड निर्धारित नही कर पाई।

Advertisements

 

एक और जहां देश के सभी विपक्षी दल जम्मू-कश्मीर से 370 हटाए जाने का स्वागत कर सरकार के साथ खड़े हैं।वही कांग्रेस राष्ट्रवाद की धारा के विपरीत धारा 370 हटाने का विरोध कर रही है, ऐसा करके कांग्रेस ने अपने हाथों अपने ताबूत में आखरी कील ठोकने का काम किया। वैसे भी अब कांग्रेस का अध्यक्ष सोनिया, राहुल या प्रियंका गांधी कोई भी बने कोई फर्क पढ़ने वाला नही है। देश की जनता कांग्रेस को सिरे से नकार चुकी हैं।