वक्फ संपत्तियों की जीआईएस मैपिंग द्वारा जाँच

-वक्फ संपत्तियों की जीआईएस मैपिंग द्वारा जाँच…..

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश में वक्फ बोर्ड की अरबों की संपत्ति है। जिस पर भूमाफिया जमीन की खरीद-फरोत करने के लिए नजरें गड़ाए बैठे हैं। समय-समय पर वक्फ संपत्ति कब्जाने की शिकायतें हमें मिलती ही रहती हैं। मगर सरकार है कि, इससे नजरें फेरे बैठी है। अधिकारियों को यह तक नहीं पता कि, वर्तमान में वक्फ बोर्ड की संपत्तियां कितनी है और उसकी क्या स्थिति है।

इस पर संज्ञान लेते हुए अब उत्तराखंड की वक्फ संपत्तियों की जीआईएस मैपिंग हेतु होगी जाँच। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की सर्वेयर टीम बीते कुछ दिन पूर्व देहरादून पहुंची और बिना कोई देरी किए जीआईएस मैपिंग के लिए देहरादून की मशहूर मस्जिद, जामा मस्जिद, पलटन बाजार की वक्फ संपत्तियों का दौरा किया और अपने प्रोजेक्ट की शुरुआत की।

आपको बता दें, इस मौके पर जामा मस्जिद, पलटन बाजार की प्रबंध समिति के अध्यक्ष बहार अहमद संग सचिव मोईनुद्दीन, उपाध्यक्ष नसीम अहमद व वसीम अहमद भी मौजूद रहे। उपरोक्त सभी पदाधिकारियों ने दिलचस्पी के साथ सभी वक्फ संपत्तियों की जांच मीटिंग कराई।

Advertisements

जामा मस्जिद के बाद सर्वेयर की टीम दोन दरगाह कमाल शाह पहुँची, वहाँ पहुंचकर उन्होंने दो फोटोग्राफ्स एवं जीआईएस कॉर्डिनेट रिकॉर्ड किया। अंत में टीम दरगाह जमाल शाह पहुंची और अपना काम पूरी तन्मयता के साथ किया। दरगाह समिति के सचिव मकसूद अहमद द्वारा टीम को दरगाह का निरीक्षण कराया गया।

मामून राशिद ने कहा, वक्फ संपत्तियों की सुरक्षा हेतु केंद्र सरकार द्वारा कराए जा रहे इस महत्वपूर्ण कार्य में आप सभी की भागीदारी की जरूरत है। अतः आपसे गुजारिश है कि, सर्वेयर की टीम को सहयोग प्रदान करें। अल्लाह हमें इस काम को अंजाम देने की हिम्मत अता फरमाए।