जवाहर नवोदय विद्यालय में मनाया वन महोत्सव

जवाहर नवोदय विद्यालय में मनाया वन महोत्सव

देहरादून। वन अनुसंधान संस्थान द्वारा जवाहर नवोदय विद्यालय, शंकरपुर में दिनांक 22 जुलाई 2019 को वन महोत्सव का आयोजन किया गया। जिसके अंतर्गत अनेक तरह के बहुउपयोगी पौधो का वृक्षारोपण किया गया जैसे, सीता अशोक, जामुन, अमलतास, पुत्रजीवक, आंवला, कनेर, बांस आदि का विद्यालय के परिसर में रोपण किया गया। जिसमें भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद तथा वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून के अधिकारियों, वैज्ञानिकों एवं कर्मचारियों ने विद्यालय के छात्रों के साथ मिलकर वृक्षारोपण किया।

वृक्षारोपण के पश्चात विद्यालय द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। जिस कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने पर्यावरण संरक्षण पर अनेक आकर्षक प्रस्तुतियां प्रस्तुत की। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डा० सुरेश चंद गैरोला महानिदेशक, भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद रहे। इसके साथ ही कार्यक्रम में उपस्थित अधिकारियों, अध्यापकों, वैज्ञानिकों एवं छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि, परिषद अपने संस्थानों के माध्यम से प्रकृति नामक कार्यक्रम चला रही है। जिसका उद्देश्य वैज्ञानिकों एवं छात्रों को एक मंच पर लाकर वानिकी एवं पर्यावरण के क्षेत्र में जानकारी को साझा करना है।

Advertisements

 

उन्होंने यह भी कहा कि, समाज का हर व्यक्ति पर्यावरण संरक्षण में अपनी अहम भूमिका निभा सकता है। इसके लिए एक प्रबल इच्छाशक्ति होनी चाहिए। हमारा देश उन शीर्ष दस देशों में से एक है जिसमें पिछले कुछ वर्षों में वन क्षेत्र में बढ़ोत्तरी हुई है। डा०गैरोला ने सुझाव दिया कि, विकास एवं संरक्षण साथ-साथ चलने चाहिए तथा विकास पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखते हुए होना चाहिए। इस अवसर पर वन अनुसंधान संस्थान के निदेशक श्री अरुण सिंह रावत ने अपने संबोधन में कहा कि, छात्रों के लिए संस्थान द्वारा अनेक तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

 

जिसमें छात्रों का भ्रमण पर्यावरण संरक्षण संबंधी अनेक तरह की प्रतियोगिताएं तथा जागरूकता अभियान शामिल है। उन्होंने यह भी कहा कि, भविष्य में इसी प्रकार के अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम का आयोजन विस्तार प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान एवं जवाहर नवोदय विद्यालय द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। इस अवसर पर भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद तथा वन अनुसंधान संस्थान के अधिकारी, वैज्ञानिक एवं कर्मचारी तथा जवाहर नवोदय विद्यालय के प्रधानाचार्य, अध्यापक एवं छात्र-छात्राएं आदि उपस्थित रहे।