नेशनल हैंडलूम एक्सपो में राजस्थानी खाने की धूम तो लोकगायकों की प्रस्तुतियों पर झूमे लोग

नेशनल हैंडलूम एक्सपो में राजस्थानी खाने की धूम तो लोकगायकों की प्रस्तुतियों पर झूमे लोग

 

देहरादून। दून एक्सपो में दिन प्रतिदिन उमड़ती भीड़ मेले की रौनक बढ़ा रही है। आज रविवार दिनांक- 05/01/20 को मेले में लोगो की उमड़ी भीड़ ने अपनी-अपनी खूब ख़रीदरियाँ की। बता दें कि, मेले में उपस्थित हर एक चीज़ लोगों को बहुत भा रहे है। फिर चाहे वह खाना हो या एक्सपो में हर एक चीज़ लोगो के मन को लुभा रहे है। अगर खाने की बात करें तो राजस्थान फ़ूड भोजनालय जो कि राजस्थानी खाने से भरपूर है, इस स्टॉल पर लोगों की भीड़ उमड़ती दिखाई दी, राजस्थानी फूड्स ने अपने स्टॉल पर राजस्थान की सभी प्रसिद्ध व्यंजनों को मेन्यू में रखा है, और जो लोग राजस्थान नहीं जा सकते वो एक्सपो में राजस्थानी व्यंजन का आनंद ले सकते है।

नेशनल हैंडलूम एक्सपो में लगे स्टॉल- 2
                          नेशनल हैंडलूम एक्सपो में लगे स्टॉल

बताना जरूरी होगा कि, इस मेले में राजस्थान से आये हुए कारीगर ने अपने हांथो से बनाये लाज़वाब व्यंजनो से लोगों का मन मोह लिया है। यह स्टॉल बाबूलाल का है। जो राजस्थान के नाहोर के रहने वाले है। उनका कहना है कि, वह हर साल यह स्टॉल लगाते है, और उनके स्टॉल पर हर साल बहुत भीड़ लगती है। यही अगर बात उनके व्यंजनों की करें तो उनके स्टाल पर राजस्थानी थाली बहुत ही प्रसिद्ध है, और इस थाली में दालबाटी, चूरमा, गट्टे की सब्जी, बाजरे की रोटी, मिस्सी रोटी, लहसुन की चटनी, मूंगदाल का हलवा है। जिसे राजधानी की जनता बेहद ही चाव से खा रहे है।

Advertisements

यह थाली 250 प्रति थाली के दाम में उपलब्ध है। इसके अलावा राजस्थानी स्टॉल के कारीगर भवरलाल और राजू का कहना है कि, थाली के अलावा मेन्यू में बहुत ही स्वादिष्ट राजस्थान की स्पेशल प्याज कचोरी, मूंगदाल कचोरी, जोध पूरी मिर्ची बड़ा, बीकानेरी जलेबी, मूंगदाल की पकोड़ी, मावा कचोरी भी उपलब्ध है। आज रविवार को विनय कुमार सहायक निर्देश बुनकर सेवा केंद्र चमोली ने मेला अधिकारी केसी चमोली के साथ मिलकर हैंडलूम स्टॉलों का निरक्षण किया। इस दौरान विनय कुमार द्वारा हैंडलूम मार्का एवं हैंडलूम प्रोडक्शन को व्यवस्थित देख संतुष्टि व्यक्त की गयी।

नेशनल हैंडलूम एक्सपो में लगे कपड़े के स्टॉल -1
                     नेशनल हैंडलूम एक्सपो में लगे कपड़े के स्टॉल 

इस मौके पर कुँवर सिंह बिष्ट और कहकश नूरी उपस्थित रहे।आज उत्तराखंड के प्रसिद्ध लोक गायक व् जागर सम्राट पदम् विभूषण से सम्मानित डॉ प्रीतम सिहं भरतवाण ने भी एक्सपो में भ्रमण कर खरीदारी की और एक्सपो के उत्पादों की काफी तारीफ की। सायंकाल में एक्सपो में उत्तराखंडी संस्कृति से जुड़े कलाकारों ने भी अपनी रंगारंग प्रस्तुतियां दी। जिनमें नवज्योति संस्कृति एवं समाजिक देहरादून संस्था के प्रदीप असवाल, रेनू बाला के कुमाउनी गीत तेरी रंगेली पिछोड़ी कमो, हाय कखडी छिल म, लूण पिसे सिल माँ, धन मेरु पहाड़ और तांदी जौनसारी लोकगीतों को लोगो ने सुनकर खूब आनंद उठाया।