उत्तराखंड महाकौथिग पारंपरिक लोक कला एवं हस्तशिल्प मेले का आयोजन

उत्तराखंड महाकौथिग पारंपरिक लोक कला एवं हस्तशिल्प मेले का आयोजन

 

महाकौथिग गाजियाबाद 21 से 29 दिसम्बर

देहरादून। इंदिरापुरम के शक्ति खंड रामलीला मैदान में 21 से 29 दिसंबर तक सजेगा। उत्तराखंड के विविध रंगों से गाजियाबाद के इंदिरापुरम में उत्तराखंड महाकौथिग पारंपरिक लोक कला एवं हस्तशिल्प मेला आयोजित किया जाएगा। इसमें पहाड़ों की कला संस्कृति दिखाई जाएगी। इस बार महाकौथिग में गंगोत्री धाम का भव्य मंच बनाया जाएगा।

 

बता दें कि, इसके साथ ही लोक गाथाओं पर आधारित गढ़वाली कुमाऊनी नृत्य नाटिकाओं का मंचन भी किया जाएगा। महाकौथिग का विधिवत उद्घाटन उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के कर कमलों द्वारा किया जाएगा मेले में उत्तराखंडी फैशन शो एवं जुमलों प्रतियोगिता सुपरमॉम डांस कंपटीशन वहीं युवाओं के लिए फोक म्यूजिक अवार्ड भी रखा गया है। उत्तराखंड के उत्पादन के लग-भग डेढ़ सौ स्टॉल मेले में लगाए जाएंगे।

Advertisements

 

प्रतिदिन संध्या में मां गंगा की दिव्य आरती की जाएगी व उत्तराखंड के जाने-माने कलाकार अपनी प्रस्तुतियां देंगे। महाकौथिग के अध्यक्ष केवल लखेडा व मुख्य संयोजक राजेंद्र चौहान ने बताया कि, इस बार देशभर के लोग महाकौथिग इंदिरापुरम में सम्मिलित होंगे। 9 दिवसीय महाकौथिग में स्कूली बच्चों के कार्यक्रम भी शामिल है।
हल्दी हाथ कार्यक्रम में युवक-युवती परिचय सम्मेलन कराया जाएगा। पहाड़ी व्यंजनों को मेले में खासतौर से रखा गया है, महाकौथिग त्यौहार का सभी युवा, बुजुर्ग, महिलाएं व बच्चों को खासा इंतजार रहता है। महाकौथिग का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड के धार्मिक स्थलों, पर्यटन, कृषि, औद्योगिक विकास एवं लोक कला व संस्कृति को बढ़ावा देना है।

 

प्रेस वार्ता में लोक गायिका कल्पना चौहान, निगम पार्षद अनिल राणा प्रशांत गगोडिया, सुशील रावत एवं फिल्म निर्देशक देबू रावत, मणि भारती व मुख्य संयोजक राजेंद्र चौहान मौजूद थे, मीडिया प्रभारी किशोर रावत आदि शामिल रहे।