वरिष्ठ पत्रकार सेमवाल के प्रकरण में पत्रकारों ने लगाई प्रधानमंत्री से न्याय की गुहार

वरिष्ठ पत्रकार सेमवाल के प्रकरण में पत्रकारों ने लगाई प्रधानमंत्री से न्याय की गुहार

 

– प्रधानमंत्री तक पहुँचा वरिष्ठ पत्रकार सेमवाल को षडयंत्र के तहत फंसाने का मामला

– सेमवाल की गिरफ्तारी पर 18 पत्रकार संगठन हुए एकजुट….
– राजनीतिक संगठनों ने भी दिया सेमवाल का साथ
– कलमकारों का हाथ कमल करने की हो रही साजिश….

देहरादून। राजधानी देहरादून समेत प्रदेशभर के पत्रकारों, सामाजिक संगठनों एवं आम जनता के धरना, प्रदर्शन व उबाल के बाद अब दिग्गज पत्रकार एवं पर्वतजन पोर्टल के संपादक शिव प्रसाद सेमवाल का मामला प्रधानमंत्री तक पहुंच गया है। पीएम से शिकायत की गई है कि, उत्तराखंड पुलिस ने पत्रकार सेमवाल को एक षडयंत्र के तहत फंसाया है, क्योंकि वे अपनी खबरों के माध्यम से सरकार व नौकरशाहों की तमाम जनविरोधी नीतियों एवं भ्रष्टाचार को आमजन तक पहुंचाने का काम करते हैं।

 

देहरादून निवासी विजेंद्र राणा ने उक्त प्रकरण में ट्वीटर अकाउंट पर प्रधानमंत्री को पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगाई है। अपने पत्र में राणा ने लिखा है कि, पर्वतजन के संपादक शिव प्रसाद सेमवाल उत्तराखंड के एक ऐसे दिग्गज पत्रकार हैं, जो अपनी धारदार लेखनी के माध्यम से विगत दो दशकों से सरकार व नौकरशाहों की तमाम घपला, घोटालों व भ्रष्टाचार को उजागर करते रहे हैं। उनको षडयंत्र के तहत फंसाया गया है। ऐसे में मौलिक अधिकारों का हनन हुआ है। उन्होंने यह भी कहा है कि, गांधी जी के रामराज एवं अटल जी के न्यायप्रिय भारत में जो कुछ घटित हो रहा है, इससे लोकतंत्र वाले देश में लोकतंत्र की विश्वसनीयता पर ही संदेह खड़ा होने लगा है। यानि कि लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ मीडिया की आवाज दबाने का प्रयास किया जा रहा है।

Advertisements

 

राणा ने की प्रधानमंत्री से शिव प्रसाद सेमवाल को शीघ्र न्याय दिलाने की मांग

सेमवाल की गिरफ्तारी पर 18 पत्रकार संगठन एकजुट हुए राजनीतिक संगठनों ने भी दिया सेमवाल का साथ
शिव प्रसाद सेमवाल की अविलम्ब रिहाई व उनकी सहसपुर, देहरादून पुलिस द्वारा गलत तरीके से की गई गिरफ्तारी के विरोध में मंगलवार को गांधी पार्क के बाहर डेढ़ दर्जन से अधिक पत्रकार संगठनों एवं इनसे जुड़े पत्रकारों ने सांकेतिक धरना दिया। सेमवाल के समर्थन में तमाम समाजिक कार्यकर्ताओं व राजनीतिक लोगों ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सेदारी की और अपना समर्थन देने का ऐलान किया है।

 

बीते मंगलवार को देहरादून के अलग-अलग पत्रकार संगठनों से जुड़े पत्रकार साथियों ने संयुक्त पत्रकार संघर्ष समिति के बैनर तले गांधी पार्क के बाहर सरकार व पुलिस प्रशासन के द्वारा पत्रकारों पर किए जा रहे उत्पीडऩ के खिलाफ धरना दिया, तथा सभी साथियों ने एक सुर से यह आवाज उठाई कि, पत्रकार साथी शिव प्रसाद सेमवाल के मामले में पुलिस एक तरफा कार्यवाही करने के स्थान पर पूरी ईमानदारी के साथ मामले की जांच करें तथा सेमवाल को अति शीघ्र रिहा किया जाए।

 

धरने को एनयूजे (आई), इंडियन जर्नलिस्ट यूनियन, आल इंडिया उदू एडिटर कांफ्रेंस, जर्नलिस्ट यूनियन आफ उत्तराखंड, नेशनलिस्ट यूनियन आफ जर्नलिस्ट, देवभूमि पत्रकार यूनियन, वर्किंग जर्नलिस्ट आफ इंडिया, श्रमजीवी पत्रकार यूनियन, पर्वतीय संपादक परिषद, देवभूमि जर्नलिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन, न्यूज पेपर एंड मीडिया वेलफेयर सोसाइटी, उत्तराखंड वेब मीडिया एसोसिएशन, अखबार बचाओ संघर्ष समिति, उत्तराखंड जनकल्याण पत्रकार समिति, पत्रकार प्रेस परिषद नई दिल्ली आदि संगठनों के प्रतिनिनिधयों के अलावा सामाजिक संगठनों से जुड़े लोग भी शामिल हुए।