ट्रस्ट बना कर खुलेआम हो रहा आस्था से खिलवाड़

ट्रस्ट बना कर खुलेआम हो रहा आस्था से खिलवाड़

 

कौशाम्बी। जनपद चायल क्षेत्र में कोइलहा गांव में गोलू बाबा के अंध विश्वास में चढ़ावा के नाम पर लुट लोग लूट रहे है।चायल सरांय अकिल कोतवाली के बेरुई गांव में महज 6 वर्षीय बालक गोलू उर्फ गोलू बाबा के घर पर दो माह पूर्व लोगो का सैलाब उमड़ता था। बालक के छूने मात्र से बड़ी-बड़ी बीमारी ठीक होने की अफवाह ने गोलू बाबा को रातों रात ख्याति दिला दी थी। जिला प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए गोलू बाबा का दरबार बंद करवा दिया था। मगर अब दो महीने बाद एक बार फिर गोलू बाबा चर्चाओं में आ गए हैं।

 

इलाके के एक राजनीतिक व्यक्ति ने मासूम गोलू के नाम से ट्रस्ट खोल कर कमाई शुरू कर दी है।गोलू बाबा सामाजिक सेवा ट्रस्ट में जाना है, तो सोच समझ कर जाएं। ट्रस्ट में बैठे कुछ लोग गोलू बाबा के नाम पर खुली लूट कर आस्था पर चोट पहुंचाने का काम करते हैं। जहां बालक (गोलू बाबा) के छूने मात्र से बीमारी ठीक करने का दावा कर आस्था से खिलवाड़ हो रहा है।

पूरामुफ्ती के कोइलहा गांव में राजनैतिक संरक्षण प्राप्त चायल ब्लाक प्रमुख सोनू कुमार ने गोलू बाबा सामाजिक ट्रस्ट बनाकर दान के नाम पर आने वाले श्रद्धालुओं को खुले आम लूट रहे हैं। रोजाना हजारो लोग यहां गोलू बाबा के दर्शन के लिए पहुंचते हैं। दान के लिए गोलू बाबा के बगल में भारी भरकम बक्सा भी रखा गया। दान न देने कि स्थिति में वहां मौजूद सेवादार लोगो से बदसलूकी भी करते हैं। इतना ही नहीं जल्दी दर्शन करवाने के लिए सेवादार 100 से 150 रुपये की वसूली भी करते है।

 

बीमारियों से ग्रसित और समस्याओं से जूझ रहे लोगो से जिस तरह लूट का खाका तैयार किया गया, वह क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। मासूम बच्चे के पढ़ने लिखने की उम्र में उसे दैवीय शक्ति का चोला ओढ़ा कर अपनी दुकान चला रहे हैं। दैवीय शक्ति और आस्था से खिलवाड़ कर हर रोज लाखो रुपये लूटा जा रहा है। बाबा के दर्शन करने वाले लोगो की माने तो वहां मोबाइल से फोटो खींचना प्रतिबंधित किया गया है। ट्रस्ट के बाहर ही असलहे से लैस दर्जनों सेवादार मोबाइल और कैमरा रखवा लेते है। मामले की पूरी जानकारी होने के बावजूद भी प्रशासन अनजान बना हुआ है।

Advertisements

 

राजनेता के घर पर लगता है दरबार। चायल जानकारी के मुताबिक गोलू बाबा और उसका परिवार अब पूरामुफ्ती के कोइलहा निवासी एक नेता के आवास में रहता है। जहां प्रतिदिन शाम को 3 से 5 बजे तक दरबार लगता है। इस दौरान हजारों की संख्या में लोग मिलने आते हैं, और अंधविश्वास के नाम पर लाखों रुपये भेंट भी चढ़ाया जाता है।

 

परिजनों को भेजा जा चुका है जेल

सरांय अकिल पुलिस ने अंधविश्वास के इस खेल में गोलू बाबा के पिता राजू, चाचा चंदन व हीरा समेत 12 अज्ञात के खिलाफ धोखाधड़ी व अवैध वसूली का मुकदमा लिख तीन परिजनों को जेल भी भेजा था। मगर अब ट्रस्ट के नाम पर एक नेता लोगों की आस्था से खिलवाड़ कर रहा है। देखना है कि पुलिस इसमे क्या कार्रवाई करती है?