Exclusive: मानक के विपरीत घटिया निर्माण समाग्री से बनाया जा रहा रोडवेज बस स्टॉप भवन

मानक के विपरीत घटिया निर्माण समाग्री से बनाया जा रहा रोडवेज बस स्टॉप भवन

 

 

– समय सीमा में कैसे बनकर तैयार होगा डिपो, वर्कशाप और रोडवेज बस स्टाप भवन.

कौशाम्बी। जनपद बनने के 22 वर्ष बाद भाजपा की योगी सरकार ने जनपद मुख्यालय मंझनपुर में रोडवेज बस स्टाप डिपो वर्कशाप के निर्माण की मंजूरी दी है। इसके निर्माण के लिए 8 करोड 58 लाख की लागत स्वीकृत कर 3 करोड 58 लाख रूपये सरकार ने परिवहन विभाग को अवमुक्त कर दिया है। 23 दिसम्बर 2018 से शुरू हुए इस कार्य को 10 महीने बीत जाने के बाद भी 30 प्रतिशत भी कार्य पूरा नही हो सका है। जबकि कार्य पूर्ण होने की अवधि में पांच महीने से कम शेष है।

 

 

बता दें कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की घोषणा के अर्न्तगत बस स्टेशन के निर्माण की कार्य पूर्ण होने की अवधि 20 मार्च 2020 रखी गयी है। सूबे के मुख्यमंत्री को गुमराह कर कार्यदायी संस्था के जिम्मेदारो ने शासन को यह रिर्पोट भेज दी है कि वर्कषाप का 70 प्रतिशत से अधिक कार्य पूर्ण हो चुका है जबकि यह सरासर गलत है। वही सिलेप और प्लास्टर के कार्य पूर्ण स्तर पर होने की रिर्पोट बीते सितम्बर माह में ही शासन को भेजी जा चुकी है।

Advertisements

 

 

जबकि कार्य पूर्ण होने के स्तर पर अभी नही है विभागीय रिर्पोट पर गौर करे तो बस स्टाप भवन बाउण्ड्री वाल 60 प्रतिशत पूर्ण है जबकि बाउण्ड्री वाल की सतह को सडक से नीचे रखकर सरकारी रकम डकारने की कोशिश की गयी है यदि सडक की ऊचाई से बाउण्ड्री वाल की स्वीकृत ऊचाई की नाप करायी जाये तो ठेकेदार की कलई खुलना तय है।

 

 

बस स्टाप का भवन के निर्माण का अभी 30 प्रतिशत भी कार्य नही पूर्ण हो सका है। टायलेट गार्ड रूम आदि को स्लेप स्तर पर रिर्पोट भेजी जा चुकी है। जबकि अभी जमीन समतल का कार्य तक ठेकेदार नही कर सके है। रोडवेज बस स्टाप के निर्माण में व्याप्त धांधली का आलम यह है कि प्रथम श्रेणी की ईट स्वीकृत होने के बावजूद तृतीय श्रेणी की पटसेम ईट लगाकर रोडवेज बस स्टाप के भवन और बाउण्ड्री वाल बनाये गये है। सीमेंन्ट बालू का अनुपात भी स्वीकृत योजना के विपरीत है

 

 

इस कार्य योजना में बीते महीने तक 2 करोड 26 लाख का बजट भी ठेकेदार को अवमुक्त किया जा चुका है लेकिन भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने का प्रयास अधिकारियो ने नही किया है कार्यदायी संस्था के कृत्य पर रोडवेज के अधिकारियो ने भी एतराज नही किया है जिससे इस भ्रष्टाचार में कार्यदायी संस्था के साथ साथ रोडवेज के अधिकारियो के शामिल होने से इंकार नही किया जा सकता।