दर्दनाक: बेटे ने धड़ से अलग की मां की गर्दन

बेटे ने धड़ से अलग की मां की गर्दन

 

नैनीताल। एक तरफ जहां नवमी पर घर-घर में देवी मां की पूजा की जाती है, वहीं गौलापार क्षेत्र के उदयपुर गांव में बेटे ने दरांती से अपनी मां का सिर धड़ से अलग कर उसकी हत्या कर दी। हत्या इतनी जघन्य थी कि, सिर धड़ से करीब तीन फीट दूर पड़ा था। नवमी के दिन दिल दहला देने वाली इस वारदात से हर कोई सन्न है। हत्यारोपी मानसिक रूप से बीमार बताया जा रहा है। स्थानीय लोगों की मदद से चोरगलिया पुलिस ने आरोपी बेटे को गिरफ्तार कर मां के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया।

 

बताते चलें कि, उदयपुर गांव के क्यूरा फार्म निवासी 60 वर्षीय जैमती देवी पत्नी सोबन सिंह सुबह साढ़े आठ बजे दरांती लेकर घास काटने जा रही थी। इस बीच, उसकी बड़े बेटे डिगर सिंह कोरंगा (30) से किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार डिगर ने जैमती के हाथ से धारदार दरांती छीनकर उनके सीने पर वार कर दिया। जब इतने से भी दिल नहीं भरा तो बाल पकड़कर उसने मां का सिर धड़ से अलग कर दिया।

 

 

पड़ोसी बसंती बिष्ट का बेटा तिमिल के पत्ते लेने जैमती देवी के घर पहुंचा तो वहां का दृश्य देखकर दंग रह गया। जब घर पहुंचकर उसने अपनी मां को जानकारी दी तो बसंती के चिल्लाने पर पड़ोसी इकठ्ठा हो गए, डिगर ने खुद को कमरे में बंद कर लिया था, पुलिस ने दरवाजा तोड़कर उसकी तलाश की तो वह कुल्हाड़ी लेकर उनकी ओर दौड़ पड़ा। पुलिस वालों ने 150 मीटर दूर भागकर अपनी जान बचाई। हालांकि, बाद में ग्रामीणों की मदद से उसे पकड़ लिया गया।

 

– हल्द्वानी से चल रहा है इलाज

Advertisements

डिगर सिंह के पिता सोबन सिंह ने बताया कि बेटा मानसिक रूप से बीमार है। चार साल से सुशीला तिवारी अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। उसने पांच दिन पहले ही दवा खानी छोड़ी थी। डिगर सिंह के चार भाई बहन हैं। दो बहनों और एक भाई की शादी हो चुकी है। छोटा बेटा तारा काशीपुर में नौकरी करता है।

 

– मां का लाडला बेटा था डिगर

पिता सोबन सिंह कोरंगा ने बताया कि, वारदात के समय मां-बेटा ही घर पर थे। उनका परिवार जानवर पालकर और मजदूरी कर जीवन यापन करता है। डिगर अपनी मां का बहुत लाडला था। मां उसकी देख-रेख करती थी। ग्रामीणों के अनुसार वह हमेशा बड़बड़ाते रहता था, और अचानक दौड़ने लगता था। मां पड़ोसियों के सहारे ही डिगर को काबू किया करती थी।