क्या मुख्यमंत्री भ्रष्टाचारीयों के क्रम में सर्वप्रथम खुद पर करेंगे कार्यवाही

क्या मुख्यमंत्री भ्रष्टाचारीयों के क्रम में सर्वप्रथम खुद पर करेंगे कार्यवाही

 

– मुख्यमन्त्री रावत के सम्बन्धी बयान पर मोर्चा करेगा सिलसिलेवार प्रहार….

 

– मुख्यमन्त्री से स्वयं उनके भ्रष्टाचार की शिकायत करेगा मोर्चा….

देहरादून। विकासनगर में स्तिथ जनसंघर्ष मोर्चा के कार्यालय में एक पत्रकार वार्ता के दौरान जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष व जनसंघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि, सूबे के मुख्यमन्त्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा आज के समाचार पत्र में खुले शब्दों में कहा गया है कि, ‘‘भ्रष्टाचार है तो तुरन्त बतायें’’ इसी कड़ी में जनसंघर्ष मोर्चा मुख्यमन्त्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के घोटालों का सिलसिलेवार यानि की सीरियर अटैक करेगा। जिसमें मुख्यमन्त्री रावत के स्वयं के ढैंचा बीज घोटाले की सीबीआई व उच्च स्तरीय जाँच की मांग मोर्चा करता है।

वार्ता को जारी रखते हुए रघुनाथ नेगी ने यह भी कहा कि, सीएम त्रिवेन्द्र द्वारा वर्ष 2010 में कृषि मन्त्री रहते हुए किसानों की उपज बढ़ाने के नाम पर गरीब किसानों का ढैंचा बीज घोटाला अधिकारियों संग मिलकर किया गया था। जिसमें तत्कालीन सरकार द्वारा वर्ष 2013 में एकल सदस्यीय त्रिपाठी जाँच आयोग का गठन कर सीएम त्रिवेन्द्र रावत व अन्य को भ्रष्टाचार का दोषी पाया गया था।

Advertisements

 

– सर्वप्रथम मुख्यमन्त्री करें स्वयं के ढैंचा बीज घोटाले पर कार्यवाही….

 

अध्यक्ष नेगी ने बताया कि, जिसमें आयोग द्वारा सीएम त्रिवेन्द्र को प्रिवेंशन एवं करप्शन एक्ट 1988 की धारा 13 (।) (डी) (।।।) के तहत दोषी पाया था। लेकिन अधिकारियों पर दबाव डालकर अपने पक्ष में रिपोर्ट लगवा दी गई थी। यानि एक्शन टेकन कमेटी की रिपोर्ट में अपने को पाक-साफ करा लिया था।

 

 

मोर्चा सूबे के मुख्यमन्त्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से मांग करता है कि, सिलसिलेवार प्रहार की कड़ी में सबसे प्रथम ढैंचा बीज घोटाले पर स्वयं के खिलाफ कार्यवाही करें। उसके पश्चात अन्य भ्रष्टाचारीयों के खिलाफ कार्यवाही करें।

 

 

पत्रकार वार्ता में मुख्य रूप से जनसंघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी, मोर्चा जिलाध्यक्ष डाॅ ओपी पंवार, हाजी जामिन, अमित, सुशील भारद्वाज आदि उपस्थित थे।