सावधान: गंगा दशहरा पर्व पर बाहरी राज्यों के श्रद्धालुओं की हरिद्वार प्रवेश पर रोक

112

गंगा दशहरा पर्व पर बाहरी राज्यों के श्रद्धालुओं की हरिद्वार प्रवेश पर रोक। घर में ही करना होगा स्नान

रिपोर्ट- वंदना गुप्ता
हरिद्वार। माँ गंगा के अवतरण दिवस के रूप में मनाए जाने वाले पर्व गंगा दशहरा स्नान के मौके पर हरिद्वार में गंगा स्नान करने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमडती है। माना जाता है कि, गंगा दशहरा के दिन ही माँ गंगा धरती पर आई थी और भागीरथ के पुरखों का उद्धार किया था। गंगा दशहरा के दिन हर की पौड़ी स्थित ब्रह्मकुंड में स्नान करने का विशेष महत्व माना जाता है।

यही वजह होती है कि, देश के विभिन्न राज्यो से श्रद्धालु गंगा दशहरा के दिन हरिद्वार स्नान करने लाखो की संख्या में पहुंचते है। मगर इस बार 20 जून को पड़ने वाले पर्व गंगा दशहरा स्नान पर बाहरी राज्यो के श्रद्धालु हरिद्वार पहुंच माँ गंगा में आस्था की डुबकी लगाने से वंचित रहेंगे। दरसल कोरोना संक्रमण के चलते हरिद्वार पुलिस और प्रशासन ने गंगा दशहरा पर्व को सांकेतिक रूप में मनाने का निर्णय लिया है और बाहरी राज्यो के श्रद्धालुओं की हरिद्वार में प्रवेश पर रोक लगाई है।

हरिद्वार पुलिस ने श्रद्धालुओ से अपने घर रहकर गंगा दशहरा पर्व स्नान मनाने की अपील भी की है। वही इसको लेकर कल सुबह से पुलिस द्वारा सभी बॉर्डर्स को सील कर चेकिंग अभियान भी चलाया जाएगा।

एसपी सिटी कमलेश उपाधयाय का कहना है कि, हरिद्वार में विभिन्न धार्मिक संस्थाओं सहित श्री गंगा सभा के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर निर्णय लिया गया है कि, गंगा दशहरा को सांकेतिक रूप में मनाया जाएगा और बाहरी राज्यो से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए हरिद्वार की सीमाओं को सील किया जाएगा।

बाहरी राज्यो से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए हरिद्वार के प्रवेश की अनुमति नही होगी। इसमे हमारी श्रद्धालुओ से अपील है कि, वह अपने घरों में रहकर गंगा दशहरा पर्व को मनाए। हरिद्वार के गंगा दशहरा सांकेतिक होने के साथ इस दौरान सरकार द्वारा जारी एसओपी का पालन किया जाएगा। नियमो का उल्लंघन करने वालो के खिलाफ करावाई की जाएगी। कल सुबह से पुलिस द्वारा सभी बॉर्डर पर चेकिंग अभियान शुरू किया जाएगा।

बता दें कि, गंगा दशहरा पर्व पर मां गंगा में आस्था की डुबकी लगाने लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। मगर कोरोना महामारी के कारण सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस प्रशासन और धार्मिक संस्थाओं द्वारा आपसी सहमति से निर्णय लिया गया है कि, दूसरे राज्यों से भारी संख्या में श्रद्धालु हरिद्वार मां गंगा में आस्था की डुबकी लगाने ना आए और अपने घर में ही गंगा दशहरे का पर्व मनाए। इसको लेकर पुलिस प्रशासन भी मुस्तैद नजर आ रहा है।

Previous articleवृद्ध महिला की मौत का खुलासा। आरोपी पहले भीख मांगकर करते थे रेकी, फिर लूट
Next articleसवालों के घेरे में फंसा रिवर ट्रेनिंग नीति के तहत चैनलाइज का कार्य