देहरादून: 12 वर्षीय बच्चे में कोरोना संक्रमण की पुष्टि

2909

12 वर्षीय बच्चे में कोरोना संक्रमण की पुष्टि

देहरादून। कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए सरकार और स्वास्थ्य विभाग विभिन्न तरह से जागरूकता फैलाने के साथ ही हर संभव प्रयास कर रहा है। बावजूद इसके इन दिनों स्कूलों को खोलने की सरकार तैयारियां कर रही है। वहीं दून अस्पताल के पीआईसीयू में तीन दिन से भर्ती एक 12 साल का बच्चा कोरोना संक्रमित पाया गया है। जिससे विभाग के अफसर एवं अस्पताल के डाक्टर सकते में हैं, क्योंकि अस्पताल में एक माह बाद कोई बच्चा संक्रमित पाया गया है।

अस्पताल में रोजाना चार से पांच बच्चे विभिन्न बीमारियों को लेकर भर्ती हो रहे हैं। कोरोना जांच सभी की कराई जाती है। एक माह बाद कोई बच्चा संक्रमित मिला है। दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना ने बच्चे के संक्रमित पाए जाने की पुष्टि की है।

उन्होंने बताया कि, विभाग के एचओडी डॉ. अशोक कुमार के अंडर में बच्चा भर्ती है। बच्चे को ऑक्सीजन की जरूरत नहीं है और अब हालत सामान्य है। शुक्रवार को सामान्य वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। विशेष निगरानी में बच्चे को रखा गया है। बच्चे के माता-पिता यूपी के एक जिले से है। जो चार माह पूर्व बच्चे को यहां लाए थे। पहले बच्चा ओपीडी में भी अस्पताल आया था। बुधवार को इमरजेंसी में आया तो उसे भर्ती किया गया। उसे सात दिन से बुखार था। अब हालत सामान्य है, चिंता जैसी कोई बात नहीं है।

घबराएं नहीं, बच्चों को लेकर सर्तकता बरतें

बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. विशाल कौशिक, डॉ. आयशा इमरान का कहना है कि, इस मौसम में बच्चों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। बरसात के मौसम में बच्चों को गंदे पानी से बचाना है। ताजा एवं तरल खाना बच्चों को दिया जाना है। उन्हें साफ, हो सके तो उबला पानी पिलाएं, गंदगी से बचाएं।

कुछ दिक्कत जैसे बुखार, नजला, खांसी एवं बच्चा गुमसुम नजर आएं तो तुरंत डाक्टर को दिखाएं। तीसरी लहर की आशंकाओं को लेकर पैनिक न फैलाएं। कोरोना से बचाव को एहतियात बरतें। घर से निकलने से पहले मास्क एवं सेनेटाइजर का प्रयोग करें। घर में वापस आने पर नहा धोकर ही बच्चों से मिलें।

Previous articleबिग ब्रेकिंग: उत्तराखंड बोर्ड का परीक्षा परिणाम घोषित। ऐसे चेक करें रिजल्ट
Next articleउत्तराखंड में केंद्र के सहयोग से मिल रही विकास को गति: धामी