महिला पुलिसकर्मी पर कार्यवाही की मांग को लेकर धरने पर बैठे कार्यकर्ता। दिया अल्टीमेटम

545

महिला पुलिसकर्मी पर कार्यवाही की मांग को लेकर धरने पर बैठे कार्यकर्ता। दिया अल्टीमेटम

रिपोर्ट- दिलीप अरोरा
पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार भाईचारा एकता मंच ने एक महिला पुलिस कर्मी पर कार्यवाही को लेकर जोरदार धरना प्रदर्शन किया। आज केंद्रीय अध्यक्ष केपी गंगवार एवं कुर्मी महासभा के केंद्रीय अध्यक्ष सौरभ गंगवार के नेतृत्व में पुलिस मुख्यालय पर संगठन के कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन कर पुलिस पर पक्षपातपूर्ण कार्रवाई करने और गरीबों का उत्पीड़न करने का आरोप लगाया।

धरना स्थल पर आयोजित सभा में दोनों संगठनों के पदाधिकारियों ने पुलिस पर पीएससी की महिला कांस्टेबल कुसुमलता को बचाने, इसके अलावा उधम सिंह नगर पुलिस द्वारा गरीबों का उत्पीड़न करने जैसे गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस की कार्यप्रणाली को सुधारने की मांग की,

दिए गए ज्ञापन में कहां है कि, विगत दिनों 31 वी. वाहिनी पी.ए.सी. निवासी महिला कांस्टेबल कुसुमलता द्वारा बाजपुर में स्थित एक मकान को श्री श्यामलाल गंगवार पुत्र स्वर्गीय श्री द्वारका प्रसाद के पक्ष में बेचा था, जिसकी तयशुदा पूरी कीमत 6 लाख लेने के बाद पी.ए.सी. पुलिस कर्मी कुसुम लता द्वारा बदनीयती से मकान देने से मना कर दिया और धोखाधड़ी करते हुये छह लाख रुपये की धनराशि हड़प ली गई।

पैसा वापिस मांगने पर पुलिस की वर्दी का रौब दिखाते हुए झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी देने लगी। जिस संबंध में ठगी के पीड़ित द्वारा 31 वी. वाहिनी के अधिकारियों के साथ-साथ पुलिस कर्मियों को प्रार्थना पत्र दिए गए।

पीड़ित की शिकायत पर पहले कोतवाली बाजपुर में और बाद में क्षेत्राधिकारी रुद्रपुर में पूरे मामले की जांच कराई गई। जांच में पुलिसकर्मी कुसुमलता द्वारा मकान बेचने के विक्रयपत्र में अपने हस्ताक्षर न होकर फर्जी हस्ताक्षर करने के बयान दिये गए है। जबकि सीओ महोदय की जांच और गवाहों के बयानों में विक्रयपत्र में महिला पुलिसकर्मी कुसुम लता के हस्ताक्षरों की पुष्टि हुई है।

सीओ द्वारा आपको दी गई जांच रिपोर्ट में भी रुपये कुसुमलता द्वारा प्राप्त करने और विक्रयपत्र पर उसी के हस्ताक्षर होने और ठगी की पुष्टि हुई है।

महिला पुलिसकर्मी कुसुम लता द्वारा इस तरह
धोखाधड़ी कर मकान और 6 लाख हड़पने की बात साबित हो चुकी है। इसके बावजूद भी पुलिस द्वारा पक्षपात पूर्ण रवैया अपनी विभागीय पुलिसकर्मी कुसुम लता के खिलाफ मुकदमा दर्ज नही करते हुये लाखों की ठगी की आरोपी को बचाया जा रहा है और ना ही पुलिसकर्मी कुसुमलता उसके पैसे वापस कर रही है।

धरना प्रदर्शन मे दर्जनों महिलाये हाथ मे तख्ती लिए शामिल थी और सबने पुलिस से इंसाफ करने की मांग की। बाद मे क्षेत्राधिकारी के आश्वासन के बाद धरना समाप्त कर दिया गया।

प्रदर्शन के दौरान भाईचारा एकता मंच के केंद्रीय अध्यक्ष केपी गंगवार, कुर्मी महासभा के केंद्रीय अध्यक्ष सौरभ गंगवार, भाईचारा एकता मंच के जिला अध्यक्ष सुमन पंत , महानगर अध्यक्ष शीला चौधरी, जिला अध्यक्ष टोनी पठान, महानगर अध्यक्ष महेश गंगवार, महानगर महामंत्री प्रवीण खान, कुर्मी महासभा के जिला अध्यक्ष मनोहर लाल गंगवार सहित हजारों महिला एवं पुरुष कार्यकर्ता मौजूद थे।

Previous articleपहाड़ों समेत मैदानी क्षेत्र हुआ पानी-पानी। देहरादून के आईटी पार्क में तैरती कार
Next articleबड़ी खबर: चारधाम यात्रा पर हाईकोर्ट की रोक। डॉक्टरों के स्टाइपेंड पर सरकार को आदेश