समीक्षा: ….अगर हरक को प्रत्याशी बनाएगी कांग्रेस तो सैकड़ो भाजपाई होंगे हरक के साथ

अगर हरक को प्रत्याशी बनाएगी कांग्रेस तो सैकड़ो भाजपाई होंगे हरक के साथ

रिपोर्ट- इंद्रजीत असवाल
पौड़ी गढ़वाल। जैसा कि आपको विदित है कि, कई समय से राजनीति के गलियारों में हरक सिंह रावत बड़ी सुर्खियों में रहे हैं, हद तो तब हुई जब बड़े सूरमाओं ने हरक की राजनीति को हाशिये पर रखने के लिए षड्यंत्र रचा। लेकिन हरक सिंह रावत उस षड्यंत्र से भी पार निकल गए और जो ठानी थी, वो कर गए।

आज कांग्रेस में वापसी के बाद चौबट्टाखाल व लैंसडाउन भाजपा में भी ख़लबली मची हुई है। कारण है सिर्फ हरक सिंह रावत। क्योंकि, हरक को अजेय याने हमेसा विजय पाने वाले के नाम से भी जाना जाता है।

आज हमारी टीम के द्वारा दोनों विधानसभाओं में जनता व राजनीतिक पार्टियों के लोगो की राय ली गई, जिसमें चौकाने वाले तथ्य सामने आए।

सबसे पहले सतपुली, जो जनपद पौड़ी का राजनीतिक अखाड़ा माना जाता है, वहां पर सैकड़ों भाजपाइयों का कहना है कि, यदि हरक सिंह को कांग्रेस चौबट्टाखाल से प्रत्याशी बनाती है, तो वे खुले मंच से हरक सिंह के पक्ष में होंगे।

क्योंकि हरक सिंह कर्मठ व्यक्ति है, यदि वे उठापटक करते हैं तो केवल अपने विधानसभा क्षेत्र के कार्यो के लिए, आम जनता भी यदि परेशान हो तो हरक हमेशा पहले खड़े मिलते हैं।

Advertisements

अब है, कांग्रेस के कई गुटों की बात, तो जो कल तक अपने गुट की पैरवी कर रहे थे, आज वो हरक सिंह के साथ देने की बात कर रहे हैं।

यही स्थिति लैंसडाउन विधानसभा की भी है, जहाँ पर हरक सिंह रावत की पुत्र वधु अनुकीर्ति के टिकट का इंतजार हो रहा है। क्योंकि अनुकीर्ति बिना पार्टी के भी विधानसभा में अब तक अपनी पकड़ अच्छी बना चुकी है। जिसके कारण यहाँ भी भाजपा अनुकीर्ति की वजह से बौखलाई हुई है।

अब बात पते की ये है कि, हरक यहाँ से दो बार विधायक रह चुके हैं व उनके द्वारा कई बड़े विकास कार्य किये गए हैं, जिस कारण जनता भी हरक को चाहती है।

अब सोचना कांग्रेस के आलाकमान को होगा कि, उन्हें जीत चाहिए या हार, यदि जीत चाहिए तो हरक को मैदान में उतारना होगा।