Exclusive: गन्ना समिति के ढुलमुल रवैये की वजह से किसानों के साथ हो रहा अन्याय

गन्ना समिति के ढुलमुल रवैये की वजह से किसानों के साथ हो रहा अन्याय

 

देहरादून। विकासनगर स्तिथ जनसंघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने मिलों/तौल सेन्टरों द्वारा किसानों का गन्ना न उठाये जाने से आक्रोशित होकर तहसील का घेराव कर सचिव गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग उत्तराखण्ड शासन को सम्बोधित ज्ञापन एसडीएम विकासनगर सौरभ असवाल को सौंपा।

 

बताते चलें कि, जनपद देहरादून में सहकारी गन्ना समिति, देहरादून क्षेत्रान्तर्गत लगभग 19 तौल सेन्टरों (सेन्टर्स) पर गन्ना किसानों का आज की तिथि तक लगभग 2-3 पखवाड़े तक का ही गन्ना उठान हो पाया है। यानि इस पेराई सत्र में 20-30 फीसदी गन्ना ही किसानों से मिल द्वारा खरीदा गया। जबकि इस रफ्तार से अगले 40-50 दिनों में 70-80 फीसदी गन्ना उठान का लक्ष्य टेड़ी खीर प्रतीत हो रहा है।

Advertisements

 

उल्लेखनीय है कि, मिल प्रबन्धन एवं सहकारी गन्ना समिति, देहरादून के ढुलमुल रवैये एवं लापरवाही की वजह से किसानों के साथ अन्याय हो रहा है। जिस कारण माह फरवरी खत्म होने के उपरान्त भी गन्ना खेतों में ही खड़ा है। ऐसी परिस्थितियों में गन्ना खेतों में ही सूख/सड़ जायेगा। तौल सेन्टरों पर उठान न होने के कारण गन्ने के वाहनों की लम्बी-लम्बी कतारें लगी हुई है, तथा सेन्टरों पर ही गन्ना सड़ रहा है। उक्त के अतिरिक्त गन्ना किसानों का गत वर्ष 2018-19 का बकाया भुगतान व घटतौली भी किसानों के लिए अभिशाप बनी हुई है। मोर्चा ने चेतावनी दी कि, अगर शीघ्र ही किसानों का गन्ना उठान व भुगतान नहीं हुआ तो मोर्चा सड़कों पर उतरकर आन्दोलन करेगा।

आज तहसील घेराव में जनसंघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी, संग महासचिव आकाश पंवार, डाॅ ओपी पंवार, दिलबाग सिंह, ओपी राणा, विनोद गोस्वामी, सोमदेश प्रेमी, दिनेश राणा, विरेन्द्र सिंह, प्रदीप कुमार, आशीष सिंह, नरेंद्र तोमर, विक्रमपाल, इसरार अहमद, टीकाराम उनियाल, मो.नसीम, मो. इस्लाम, सुशील भारद्वाज, खुर्शीद, आरपी सेमवाल, आरपी भट्ट, भजन सिंह नेगी, सन्दीप ध्यानी, अशोक डण्डरियाल, गुरविन्दर सिंह, केसी चन्देल, सचिन कुमार, मामराज, रवि भटनागर, नत्थी सिंह पंवार, अजबीर गोसांई, सतीश गुप्ता, नरेन्द्र नेगी, विनोद रावत, कुंवर सिंह नेगी, निर्मला देवी, दीपांशु अग्रवाल, दीपक अग्रवाल, चरण सिंह, जाबिर हसन आदि थे।