बच्चों की पढ़ाई को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए रोडमैप तैयार। आदेश जारी

728

बच्चों की पढ़ाई को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए रोडमैप तैयार। आदेश जारी

उत्तराखंड शिक्षा सचिव राधिका झा ने विभागीय कार्यों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि, स्कूल खोलने से पहले स्वच्छता, पेयजल, शौचालय और सैनिटाइजेशन की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी मुख्य शिक्षा अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी व खंड शिक्षा अधिकारियों की होगी।

मैदानी जिलों में अधिक छात्र संख्या वाले स्कूलों में दो पाली में कक्षाएं संचालित की जाए, बच्चों की पढ़ाई को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए रोडमैप तैयार किया जाए। सचिव शिक्षा में प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि, स्कूल खुलने पर कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास किए जाए।

अध्यापकों भोजन माताओं व अन्य कर्मचारियों का वैक्सीनेशन कराया जाए। सचिव ने कहा कि, ऑफलाइन शिक्षण के साथ ही ऑनलाइन शिक्षण की सुविधा छात्रों को प्रदान की जाए। अनुपस्थित छात्र छात्राओं की ऑनलाइन शिक्षा हासिल कर सकें।

सचिव ने निर्देश दिए कि, 2 माह के भीतर सभी स्कूलों की रंगाई पुताई का कार्य पूरा करें। विद्यालयों को एक जैसा स्वरूप मिले, इसके लिए महानिदेशक को विद्यालयों के कलर कोड के निर्णय का दायित्व दिया है। इसके साथ ही अध्यापकों का व्हाट्सएप ग्रुप अनिवार्य रूप से बनाया जाए उसमें उन बच्चों को जोड़ा जाए जिनके पास स्मार्ट मोबाइल फोन है।

Previous articleसफाई कर्मचारियों की हड़ताल के कारण कूड़ा बना आफत। एक्शन में आई जनता, फिर किया ये….
Next articleअब पौड़ी, कोटद्वार, श्रीनगर और लैंसडौन में भी होगी राष्ट्रीय लोक अदालत